Normal Days Khushali Kumar Song Lyrics

Normal Days Khushali Kumar Song Lyrics New Hindi Song

Normal Days Lyrics, a poem from the lockdown times. The poem is written by Khushali Kumar, the music is by Jigar Panchal, Chirag Panchal, and the poem also narrated by Khushali Kumar. The video is directed by Mohan S Vairaag.

Normal Days Khushali Kumar Song Lyrics

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics In English

Jab maa kahate thi woh bhee kya din the
Pechhe jaane ki zaroorat kya hai?
Aksar mein ye sochate thi sunkar

Advertisement

Kuchh dino se halaat normal nahin hain
To man apane aap bhaag jaata hai un dinon
Ki aur, jab sab normal tha

Ek cap chai aur glucose ki buiscuit
Kha kar kaam par nikalna
Maa ka peeche peeche bahagkar
Tiffin pakdana
Arey lunch to le jaa saath

Advertisement

Raste mein logo ko traffic challan dene se
Bachne ke liye inspector se ladte dekh lagta tha
Police public se kyon jhagdti hai?
Mein badal gayi ya mera nazaria
Par aaj police kamal lagti hai

Kahi se kuch bhi kahate hue dost kya kamal lagate
Lagatar ek hi baat par ghanton batein
Ab lagta hai woh time waste nahin kiya
Us connection ka maza hi kuch aur tha

Advertisement

Jinse khabi hello bhi nahin hue
Aaj unka chehara bhi jaana sa lagta hai
Jinke paas ghar nahin hain unke
Aankhon ka sapna bhi apna sa lagata hai

Shayad ye kudrat hum se kuch keh rahi hai
Ab thoda ruk kar sochne ko
Keh rahi hai
Ab tak jo hua ussey kuch seekhne ka ishara kar rahi hai
Ab aane wale samay sabko haath pakad kar chalna hoga
Maa shayad yehi keh rahi hai

Advertisement

Ab ahmiyat pata chali ki normal
Se badhkar aur kuch nahin hai

Meri maa ka pehle ke dino ko sarhana
Ab samajh aaya kyon zaroori hai?
Taaki jab sab normal ho jaaye
Hum har us cheez ko jiye jo hamare
Muh par hassi aur
Dusro kai muh par khushi laati hai
Uski khushi meri haasi
Ma tera mera na koi fasla

Advertisement

Maa sabki sach kehti hai
Sabki aakho aakho mein sapne hai
Unhen fir se sach karenge
Bas ek bar fir vapas ho jaye
Normal days

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics In Hindi

जब माँ कहती थी वो भी क्या दिन थे
पीछे जाने की ज़रूरत क्या है
अक्सर मैं यह सोचती थी सुनकर

Advertisement

कुछ दिनों से हालात नॉर्मल नहीं है
तो मन अपने आप भाग जाता है
उन दिनों की ओर जब सब नार्मल था

एक कप चाय और ग्लूकोस के बिस्कुट
खाकर काम पर निकलना
माँ का पीछे पीछे भाग कर टिफ़िन पकड़ाना
अरे लंच तो लेती जा साथ

Advertisement

रास्ते में लोगों को
ट्रैफिक चालान देने से बचने के लिए
इंस्पेक्टर से लड़ता देख लगता था
पुलिस पब्लिक से क्यों झगड़ती है
मैं बदल गई या मेरा नजरिया
पर आज पुलिस कमाल लगती है

कहीं से कुछ भी कहते हुए दोस्त
क्या कमाल लगते थे
लगातार एक ही बात पर घंटों बातें
अब लगता है वो टाइम वेस्ट नहीं किया
उस कनेक्शन का मज़ा ही कुछ और था

Advertisement

जिनसे कभी हेलो भी नहीं हुई
आज उनका चेहरा भी जाना सा लगता है
जिनके पास घर नहीं है
उनकी आँखों का सपना अपना सा लगता है

शायद ये कुदरत हमसे कुछ कह रही है
अब थोड़ा रुक कर सोचने को कह रही है
अब तक जो हुआ उससे कुछ सीखने का
इशारा कर रही है

Advertisement

अब आने वाले समय में
हम सबको हाथ पकड़ कर चलना होगा
माँ शायद यही कह रही है

अब एहमियत पता चली
कि नार्मल से बढ़कर और कुछ नहीं है
मेरी माँ का पहले के दिनों सराहना
अब समझ आया की क्यों ज़रूरी है

Advertisement

ताकि जब सब नार्मल हो जाए
हम हर उस चीज़ को जीएं
जो हमारे मुँह पर हँसी और
दूसरों के मुंह पर खुशी लाती है

उसकी ख़ुशी मेरी हंसी
न तेरा मेरा न कोई फासला
माँ सबकी सच कहती है

Advertisement

सबकी आँखों में सपने हैं
उन्हें फिर से सच करेंगे
बस एक बार फिर वापस हो जाएं
नॉर्मल डेज!

Additional info Hindi songs Normal Days lyrics

  • Song – Normal Days
  • Singer- Khushali Kumar
  • Lyricists- Khushali Kumar
  • Music Composer- Jigar Panchal, Chirag Panchal
  • Music Director- Jigar Panchal, Chirag Panchal

Normal Days: Video

Advertisement

Download

Advertisement

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x